Vitamin Ki Khoj Kisne Ki Thi Aur Kab | विटामिन की खोज किसने की थी और कब

Vitamin Ki Khoj Kisne Ki Thi Aur Kab : सभी विटामिनों की खोज किसी एक वैज्ञानिक ने नहीं की थी। हॉपकिंस ने सबसे पहले एक संगठित अवधारणा दी। आज के लेख में हम बात करेंगे कि विटामिन की खोज किसने की। क्या आप जानते हैं विटामिन की खोज किसने की, अगर आप नहीं जानते तो हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें। तो चलिए आज के इस लेख को शुरू करते हैं और इस प्रश्न का सही उत्तर जानने के लिए हमारे लेख को पूरा पढ़ें। नीचे इतिहास देखें विटामिन की खोज किसने की?

  • 1905 – डॉ विलियम फ्लेचर ने पाया कि बिना पॉलिश किए चावल खाने से बेरीबेरी को रोका जा सकता है और पॉलिश किए हुए चावल खाने से नहीं।
  • विलियम फ्लेचर का मानना था कि चावल की भूसी में विशेष पोषक तत्व होते हैं। यह विटामिन अवधारणा का पहला संकेत था।
  • 1906 – सर फ्रेडरिक गॉल और हॉपकिंस ने यह भी पाया कि कुछ खाद्य कारक स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण थे।
  • 1912 – कश्मीरी फंक ने भोजन के विशेष पोषक तत्वों को “विटामिन” नाम दिया। हॉपकिंस और फंक ने विटामिन की कमी से होने वाली बीमारी की परिकल्पना तैयार की।
Vitamin Ki Khoj Kisne Ki Thi Aur Kab
Vitamin Ki Khoj Kisne Ki Thi Aur Kab

Vitamin Ki Khoj Kisne Ki Thi | विटामिन की खोज किसने की थी?

सबसे पहले आपको पता होना चाहिए कि विटामिन हमारे शरीर को बढ़ने और विकसित होने में बहुत मदद करते हैं। तो आपको बता दें कि विटामिन की खोज 1912 में कासिमिर फंक नाम के एक बायोकेमिस्ट ने की थी। कासिमिर फंक के एक प्रयोग के दौरान, उन्होंने पाया कि कुछ सूक्ष्म पोषक तत्व हैं जो हमारे शरीर को बीमारियों से बचाते हैं। पहले तो उन्होंने सोचा कि ये सभी सूक्ष्म पोषक तत्व अमीन समूह के हैं। इसी वजह से कासिमिर फंक ने इसे वाइटल एमाइंस नाम दिया।

वाइटल एक अंग्रेजी शब्द है जिसका अर्थ है महत्वपूर्ण और अमीन को कार्बनिक रसायन विज्ञान में एक कार्यात्मक समूह कहा जाता है। वाइटल अमीन्स नाम इसलिए दिया गया क्योंकि यह शरीर के लिए भी महत्वपूर्ण है और कासिमिर फंक ने इसे अमीन समूह से संबंधित माना। महत्वपूर्ण ऐमीनों को विटामिनों में छोटा कर दिया गया था, लेकिन कुछ समय बाद यह पुष्टि हो गई कि सभी विटामिन अमीन समूह से संबंधित नहीं हैं, फिर “ई” को हटा दिया गया, जिसे अब विटामिन या विटामिन कहा जाता है। कासिमिर फंक एक पोलिश जैव रसायनज्ञ थे।

विटामिन और उनके खोजकर्ता

विटामिन                            खोजकर्तावर्ष
A            एल्मर वी. मैकुलम और मार्गुराइट डेविस1912-1914
Bएल्मर वी. मैकुलम           1915-1916
B1कैसिमिर फंक1912
B2डी.टी. स्मिथ और .जी. हेंड्रिक1926
B3(नाइयासिन) काॅनरैड एलवेजम1937
B9(फोलिक एसिड)              लुसी विल्स1933
B6पाॅल जियोर्जी1934
C. होइस्ट और टी. फ्रेलिच            1912
Dएडवर्ड मेलानबी1922
Eहर्बर्ट इवांस और कैथरीन बिशप1922

कासिमिर फंक के बारे में कुछ जानकारी:-

कासिमिर फंक का जन्म 23 फरवरी, 1884 को पोलैंड की राजधानी वारसॉ में हुआ था। उन्होंने स्विट्जरलैंड में बर्न विश्वविद्यालय, पेरिस में पादरी संस्थान और बर्लिन विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। वह 1915 में अमेरिका चले गए और वहां विभिन्न शोध पदों पर काम किया। कासिमिर फंक ने अपने जीवनकाल में विटामिन बी1, बी2, सी और डी की खोज की।

कासिमिर फंक ने विटामिन की खोज और इसकी उपयोगिता साबित करने के कारण प्रसिद्धि प्राप्त की। इसके अलावा उन्होंने हार्मोन, मधुमेह और कैंसर पर भी शोध किया। 19 नवंबर 1967 को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में उनका निधन हो गया।

उन्होंने स्विट्जरलैंड में बर्न विश्वविद्यालय, पेरिस में पादरी संस्थान और बर्लिन विश्वविद्यालय में शिक्षा प्राप्त की। 1915 में वे अमेरिका चले गए और वहां उन्होंने विभिन्न शोध पदों पर काम किया। कासिमिर फंक ने अपने जीवनकाल में विटामिन बी1, बी2, सी और डी की खोज की। उन्हें विटामिन की खोज और इसकी उपयोगिता साबित करने के कारण प्रसिद्धि मिली। इसके अलावा उन्होंने हार्मोन, मधुमेह और कैंसर पर भी शोध किया। 19 नवंबर 1967 को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में उनका निधन हो गया।

विटामिन क्या है?

इससे पहले हम आपको बता चुके हैं कि विटामिन हमारे शरीर की वृद्धि और विकास में बहुत अहम भूमिका निभाते हैं, इसके अलावा ये मेटाबॉलिज्म, इम्युनिटी और पाचन जैसे कार्यों में भी अहम भूमिका निभाते हैं। शरीर की विटामिन की जरूरतों को पूरा करने का सबसे अच्छा तरीका संतुलित आहार खाना है, जिसमें विभिन्न प्रकार के खाद्य पदार्थ शामिल हैं। शरीर में विटामिन की कमी से कई तरह के रोग हो जाते हैं। यदि हम अकेले भोजन के माध्यम से इसकी आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर पा रहे हैं, तो हमें पूरक आहार की आवश्यकता है।

विटामिन हमारे आहार का एक हिस्सा है जिसकी सभी जीवों को कम मात्रा में आवश्यकता होती है। रासायनिक रूप से, ये कार्बनिक यौगिक हैं। अगर आपके भोजन में विटामिन की कमी है या पर्याप्त नहीं है, तो उस भोजन का सेवन करने का कोई मतलब नहीं है। क्योंकि विटामिन सिर्फ एक ही प्रकार के नहीं होते हैं, वे कई प्रकार के होते हैं और ये सभी हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होते हैं।

लेकिन कुछ समय बाद यह पुष्टि हो गई कि सभी विटामिन अमीन समूह के नहीं हैं, फिर “ई” को हटा दिया गया, अब इसे विटामिन या विटामिन कहा जाने लगा।

विटामिन शब्द का नाम कैसे आया?

विटामिन शब्द 1912 में पोलिश बायोकेमिस्ट कासिमिर फंक द्वारा गढ़ा गया था। विटामिन शब्द दो शब्दों से बना है – वीटा + अमीन। यहाँ ‘वीटा’ का अर्थ है जीवन और ‘अमीन’ शरीर में पाया जाने वाला एक यौगिक है।

विटामिन हमारे आहार का एक ऐसा हिस्सा है जिसकी सभी जीवित प्राणियों को कम मात्रा में आवश्यकता होती है। रासायनिक रूप से, वे कार्बनिक यौगिक हैं। उस यौगिक को विटामिन कहा जाता है जो शरीर द्वारा अपने आप पर्याप्त मात्रा में नहीं बनाया जा सकता है लेकिन भोजन के रूप में लिया जाना चाहिए। इसलिए यदि आपके भोजन में विटामिन नहीं है या पर्याप्त मात्रा में नहीं है तो उस भोजन के सेवन का कोई फायदा नहीं है।

अभी आपके मन में यह सवाल भी उठ रहा होगा कि जब विटामिन की खोज नहीं हुई थी, उस समय लोगों को यह नहीं पता था कि विटामिन के क्या फायदे हैं और विटामिन कितने प्रकार के पाए जाते हैं।

विटामिन कितने प्रकार के होते हैं?

विटामिन कुल मिलाकर 13 प्रकार के होते हैं। इन्हें दो भागों में बांटा गया है।

  1. वसा में घुलने वाले विटामिन
  2. पानी में घुलने वाले विटामिन

वसा में घुलनशील विटामिन: –

ये विटामिन शरीर में वसा में घुलनशील होते हैं। ये हमारे शरीर के वसा ग्लोब्यूल्स द्वारा अवशोषित होते हैं, जो छोटी आंत के लसीका तंत्र से होकर सामान्य रक्त परिसंचरण में जाते हैं। इस प्रकार के विटामिन आमतौर पर भविष्य में उपयोग के लिए यकृत और वसायुक्त ऊतक में जमा हो जाते हैं।

  • ये वसा में घुलनशील विटामिन ए, डी, ई और के हैं।

पानी में घुलनशील विटामिन:-

वसा में घुलनशील विटामिन के विपरीत, पानी में घुलनशील विटामिन हमारे शरीर में जमा नहीं होते हैं, जिसके कारण शरीर को आवश्यक पोषक तत्व प्राप्त करने के लिए उनकी निरंतर आपूर्ति की आवश्यकता होती है। एक बार जब आवश्यक पोषक तत्व पानी से अवशोषित हो जाते हैं, तो अतिरिक्त शरीर से बाहर निकल जाता है।

  • ये पानी में घुलनशील विटामिन हैं – सी, बी1, बी2, बी3, बी6, बी9 और बी12।

सभी विटामिन के लाभ

  • विटामिन ए: यह विटामिन आँखों के लिए काफी आवश्यक है. यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है जैसे कि त्वचा, बाल, नाखून, ग्रंथि, दाँत, मसूड़ा और हड्डी. विटामिन A ताजे फल, दूध, माॅस, अण्डा, मछली का तेल, गाजर, मक्खन हरी सब्जियों में पाया जाता है.
  • विटामिन बी: यह शरीर को जीवन शक्ति देने का काम करता है. इस विटामिन की कमी से शरीर अनेक प्रकार के रोगों से घिर जाता है. विटामिन बी में कई विभाग होते है और सभी विभाग मिलकर विटामिन ‘बी’ कॉम्पलेक्स कहलाते है. विटामिन बी कॉम्प्लेक्स के स्रोतों टमाटर, हरी पत्तियों का साग, बादाम, अखरोट, अंगूर, दूध, ताजे मटर, दाल, वनस्पति साग-सब्जी, आलू, चना, नारियल, पिस्ता, दही, पालक, बन्दगोभी, मछली, अण्डे की सफेदी आदि है.
  • विटामिन सी: विटामिन सी को एस्कोरबिक ऐसिड के नाम से भी जाना जाता है. यह शरीर की कोशिकाओं को बांध के रखता है. यह शरीर के ब्लड वेस्सल या खून की नसों को मजबूत रखता है. विटामिन सी के सबसे अच्छे स्रोत संतरा, नींबू, अमरुद, कीवी तथा अन्य सिट्रस फ्रूट है.
  • विटामिन डी: यह शरीर की हड्डीयों को बनाने और संभाल कर रखने में मदद करता है. साथ ही यह शरीर में केल्शियम के स्तर को नियंत्रित रखने का भी काम करता है. विटामिन डी के सबसे अच्छे स्रोत अंडे का पीला भाग, मछली के तेल, दूध और बटर है. धुप सेकने से भी विटामिन डी की प्राप्ति होती है.
  • विटामिन ई: विटामिन ई को टोकोफ़ेरल नाम से भी जाना जाता है. यह विटामिन शरीर में अनेक अंगों को सामान्य रूप में बनाये रखने का काम करता है. साथ ही कोशिका का अस्तित्व बनाये रखना, उनके बाहरी कवच या सेल मेमब्रेन को बनाये रखने का काम करता है. इसके सबसे अच्छे स्रोत वनस्पति तेल और अनेक दूसरे खाघ पदार्थ है.
  • विटामिन के: हमारे शरीर में रक्त का थक्का बनाने के लिए विटामिन K की जरुरत होती है. अगर रक्त का थक्का ना बने तो चोट लगने पर अत्यधिक रक्त का बहाव होगा जिससे व्यक्ति की मृत्यु भी हो सकती है. इसके अलावा हड्डियों को मजबूत रखने के लिए भी विटामिन K आवश्यक है. Vitamin K के सबसे अच्छे स्रोत विभिन्न गोभी, हरी पत्तेदार सब्जियां, सूखे मेवे तथा नट्स आदि है.

13 विटामिनों का रासायनिक नाम?

  • विटामिन A – रेटिनोल
  • विटामिन B1 – थियामीन
  • विटामिन B2 – राइबोफ्लेविन
  • विटामिन B3 – नियासिन
  • विटामिन B5 – पैंटोथैनिक एसिड
  • विटामिन B6 – पाइरिडोक्सिन
  • विटामिन B7 – बायोटिन
  • विटामिन B9 – फोलिक एसिड
  • विटामिन 12 – कोबालमि
  • विटामिन C – एस्कॉर्बिक एसिड
  • विटामिन D – कैल्सिफैरोल
  • विटामिन E – टोकोफेरॉल
  • विटामिन K – फाइटोनडाइओन

विटामिन और उनके स्रोतों की खोज तिथियां:-

खोज का साल                   विटामिनमुख्य  स्रोत
1913   विटामिन Aकॉड लिवर तेल
1910                   विटामिन B1चावल की भूसी
1920                   विटामिन Cसाइट्रस, सबसे ताजा खाद्य पदार्थ
1920                   विटामिन Dकॉड लिवर तेल
1920                   विटामिन B2मांस, डेयरी उत्पाद, अंडे
1922                   विटामिन Eगेहूं के बीज का तेल,अपरिष्कृत वनस्पति तेलों
1929                   विटामिन K1पत्तीदार सब्जियां
1931                   विटामिन B5मांस, साबुत अनाज,कई खाद्य पदार्थों में
1931                   विटामिन B7मांस, डेयरी उत्पाद, अंडे
1934                   विटामिन B6मांस, डेयरी उत्पाद
1936                   विटामिन B3मांस, अनाज
1941                   विटामिन B9पत्तीदार सब्जियां
1948                   विटामिन B12लिवर, अंडे, पशु उत्पादों

धन्यवाद दोस्तों हमारी इस लेख को पूरा पढ़ने के लिए, तो अब आप अच्छी तरह से जानते हैं कि विटामिन की खोज किसने की थी। अगर आपको हमारी इस लेख को पसंद आया तो आप हमारी इस लेख को आपके फ्रेंड्स या रिस्तेदारो के साथ शेयर के सकते है।

यह भी पढ़ें :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here