Isro Ka Mukhyalay Kahan Hai | इसरो का मुख्यालय कहां है ?

0

Isro Ka Mukhyalay Kahan Hai : इसरो भारत में एक महत्वपूर्ण अंश है और भारत में अंतरिक्ष विज्ञान में अनुसंधान का नेतृत्व करता है, साथ ही शैक्षिक, कृषि, संचार और रक्षा क्षेत्र की परियोजनाओं के माध्यम से देश के विकास में एक बड़ी भूमिका निभा रहा है।

लेकिन दोस्तों क्या आप जानते हैं इसरो का मुख्यालय कहाँ है? अगर आप नहीं जानते हैं तो कोई बात नहीं क्योंकि आज हम इस लेख के माध्यम से बताने जा रहे हैं कि इसरो का मुख्यालय कहां है। इसके लिए हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

Isro Ka Mukhyalay Kahan Hai
Isro Ka Mukhyalay Kahan Hai

चांद पर कौन-कौन गया है

इसरो के बारे में कुछ जानकारी-

क्या आप इसरो का पूरा नाम जानते हैं? नहीं जानते तो सुनिए इसरो का पूरा नाम भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन है। आपको बता दें कि संस्थान का मुख्य कार्य भारत के लिए अंतरिक्ष संबंधी तकनीक उपलब्ध कराना है। इस संस्थान में लगभग सत्रह हजार कर्मचारी और वैज्ञानिक कार्यरत हैं। इसके अलावा, अंतरिक्ष कार्यक्रम के मुख्य उद्देश्यों में उपग्रहों का विकास, प्रक्षेपण यान, परिज्ञापी रॉकेट और जमीनी प्रणाली शामिल हैं।

इसरो का मुख्यालय कहां है?

1962 में अंतरिक्ष अनुसंधान के लिए भारतीय राष्ट्रीय समिति के गठन के साथ, भारत में अंतरिक्ष गतिविधियाँ शुरू हुईं। और उसी वर्ष तिरुवनंतपुरम के पास थुम्बा इक्वेटोरियल रॉकेट लॉन्च स्टेशन की स्थापना का काम भी शुरू हुआ।

इसरो भारत का राष्ट्रीय अंतरिक्ष संस्थान है जिसका मुख्यालय कर्नाटक प्रान्त के बेंगलुरू में है। इस संस्थान में लगभग 17,000 कर्मचारी और वैज्ञानिक कार्यरत हैं। यह आमतौर पर 15 अगस्त 1969 साल में इसकी स्थापना हुई। इसके साथ ही भारत सरकार द्वारा अंतरिक्ष आयोग के गठन के साथ ही जून 1972 में अंतरिक्ष विभाग की स्थापना की गई और सितंबर 1972 में इसरो को अंतरिक्ष विभाग के अधीन लाया गया।

अंतरिक्ष आयोग देश के आर्थिक लाभ के लिए अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी के विकास और उपयोग को बढ़ावा देने के लिए भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम की नीति के कार्यान्वयन का निर्धारण और निगरानी करता है।

अंतरिक्ष विभाग मुख्य रूप से भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो), भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल), राष्ट्रीय वायुमंडलीय अनुसंधान प्रयोगशाला (एनएआरएल), उत्तर-पूर्वी अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र और सेमीकंडक्टर प्रयोगशाला के माध्यम से इन कार्यक्रमों को लागू करता है। 1992 में भारत सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी के रूप में स्थापित, एंट्रिक्स कॉर्पोरेशन अंतरिक्ष उत्पादों और सेवाओं का विपणन करता है।

अंतरिक्ष विभाग का सचिवालय और इसरो का मुख्यालय अंतरिक्ष भवन, बैंगलोर में स्थित है। इसरो में कार्यक्रम कार्यालयों द्वारा उपग्रह संचार, पृथ्वी अवलोकन, प्रक्षेपण वाहन, अंतरिक्ष विज्ञान, आपदा प्रबंधन सहायता, प्रायोजित अनुसंधान योजनाएं, अनुबंध प्रबंधन, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग, सुरक्षा, विश्वसनीयता, प्रकाशन और जनसंपर्क, बजट और आर्थिक विश्लेषण, सिविल इंजीनियरिंग और मानव संसाधन मुख्यालय संसाधन विकास संबंधी कार्यों का समन्वय किया जाता है।

अंतरिक्ष प्रणालियों की स्थापना और उपयोग का समन्वय राष्ट्रीय समितियों जैसे इन्सैट समन्वय समिति (आईसीसी), राष्ट्रीय प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन प्रणाली योजना समिति (पीसी-एनएनआरएमएस) और अंतरिक्ष विज्ञान सलाहकार समिति (एडीसीओएस) द्वारा किया जाता है।

तो दोस्तों अब आप जान गए होंगे इसरो का मुख्यालय कहां है। आपको ये लेख पसंद आया तो आप आपके फ्रेंड्स या रिस्तेदफारो के साथ शेयर कर सकते हो।

FAQ – जरूरी सवाल

Q. इसरो का हेडक्वार्टर कहाँ हैं?

इसरो का हेडक्वार्टर बैंगलोर में मौजूद है

Q. इसरो का मुख्यालय कहां है

अंतरिक्ष विभाग का सचिवालय और इसरो का मुख्‍यालय अंतरिक्ष भवन, बेंगलूरु में स्थापित है।

Q. इसरो की स्थापना कब हुई?

इसरो की स्थापना 15 अगस्त 1969 को हुई थी।

Q. इसरो की स्थापना किसने की?

इसरो की स्थापना भारतीय भौतिक शास्त्री विक्रम साराभाई ने किया था।

Q. इसरो का फुल फॉर्म क्या है?

ISRO का फुल फॉर्म “Indian Space Research Organization है।

Q. इसरो के अध्यक्ष कौन हैं?

भारत के वैज्ञानिक ए एस किरण कुमार इसरो के अध्यक्ष हैं।

यह भी पढ़ें :

Previous articleपरमाणु की खोज किसने की थी | Parmanu Ki Khoj Kisne Ki
Next articleBharat Ka Sabse Uncha Bandh Kaun Sa Hai | भारत का सबसे ऊँचा बांध कौन सा है ?
दोस्तों, मेरा नाम जय है और मैं पश्चिम बंगाल के एक छोटे से जिले से हूँ। मुझे बैंकिंग और फाइनेंस के बारे में नई चीजें सीखने और दूसरों के साथ अपना ज्ञान साझा करने में आनंद मिलता है, इस कारण से मैंने इस ब्लॉग को शुरू किया है और आगे भी लोगों की मदद करने के लिए नए लेख और जानकारी साझा करता रहूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here