लोन माफ कैसे होगा? Loan Mafi Ki Jankari

0

लोग पैसे की जरूरत के समय कोई रास्ता नहीं मिलने पर लोन लेने के बारे में सोचते हैं और किसी तरह लोन के लिए योग्य होने के कारण लोन संस्था के नियम और शर्तों को पूरा करके लोन प्राप्त कर लेते हैं।

लेकिन समस्या तब पैदा होती है जब आप किसी कारणवश कर्ज चुकाने में असफल हो जाते हैं। ऐसी समस्या होने पर कर्जदार को कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

कर्ज न चुका पाने की वजह से वे चिंतित रहने लगते हैं और सोचने लगते हैं कि अगर लोन नहीं चुकाया तो उनका क्या होगा, क्या इसके लिए जेल हो सकती है। जेल की बात तो अलग है, आज हम सिर्फ कर्ज माफी की बात करेंगे, क्या कोई उपाय है जिससे कर्ज माफ किया जा सकता है या लोन माफ कैसे होगा।

सरकार कभी-कभी कर्जमाफी योजना के तहत कर्ज माफ कर देती है। यह कर्जमाफी सिर्फ किसानों के लिए होती है। अगर आप एक किसान हैं तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि कुछ समय पहले झारखंड सरकार ने किसान कर्ज माफी योजना के तहत सभी सीमांत और छोटे किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी।

जिसके चलते झारखंड राज्य सरकार ने किसानों का 31 मार्च 2020 तक का ऋण मानक फसली ऋण के रूप में 50,000 रुपये तक का बकाया कर्ज माफ किया। किसानों को कर्ज से राहत दिलाने वाली योजना “कृषि ऋण माफी योजना” के तहत 1228.85 करोड़ की कर्जमाफी की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है।

तो क्या किसानों को छोड़कर अन्य किसी का कर्ज माफ हो सकता है? इसका उत्तर जानने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें।

लोन न चुका पाने पर लोन माफ कैसे होगा?

आपको बताना चाहूंगा की सरकार सिर्फ और सिर्फ किसानों की ही लोन माफी करती है। यदि आपने किसी दूसरे लोन के लिए लोन माफ करने की सोच रहे है, तो यह आपकी गलतफैमी है।

यदि आप एक किसान है, तो आपके लिए यह लेख मददगार साबित हो सकता है। कृषि लोन माफी किसानों के लिए सांस लेने की जगह देने के लिए सिर्फ एक अस्थायी उपाय है।

ऐसे लोन माफी से अर्थव्यवस्था को हिला देता है, लेकिन समस्या तब और बढ़ जाती है, जो लोग लोन चुकाने के लिए योग्य हे फिर भी इस “लोन माफी योजना” का लाभ उठाने के लिए आवेदन करते है।   

विभिन्न राज्य सरकारें बैंकों के साथ बैठकें करती हैं और अपने-अपने राज्यों के किसानों के लिए ऋण माफी की घोषणा करती हैं। इस “ऋण माफी योजना” के तहत छोटे और सीमांत किसानों के 50 हजार रुपये से लेकर 2 लाख रुपये तक के ऋण माफ किए जाते है।

यह लोन माफी सिर्फ किसानों के लिए होती है, लेकिन कभी कभी ऐसा देखा गया है की किसान न होते हुए भी बहुत सारे लोग लोन माफी के लिए आवेदन कर देते है। लेकिन ऐसा करने से उनका लोन माफी नहीं होता है और लोन माफी आवेदन खारिज कर दिया जाता है। 

लेकिन जब केंद्र या राज्य सरकार लोन माफी के लिए घोषणा करती है, सिर्फ तब लोन माफी के लिए आवेदन करने से लोन माफ होती है।  

कर्ज न चुकाने की सजा क्या है?

लोन माफी योजना का लाभ कौन उठा सकता है?

ऋणमाफी योजना का लाभ सीमांत एवं किसान ले सकते हैं, परन्तु मात्र किसान होने से ऋणमाफी नहीं हो जाती, इसके लिए निम्न योग्यताओं का होना अनिवार्य है :

  • जिस राज्य सरकार ने कर्जमाफी की घोषणा की है, किसान उस राज्य का मूल निवासी होना चाहिए,
  • उम्र 18 साल से ऊपर होनी चाहिए,
  • राशन कार्ड होना चाहिए,
  • आधार नंबर होना चाहिए,
  • किसान क्रेडिट कार्ड होना अनिवार्य है,
  • किसान के पास एक मानक फसल ऋण खाता होना चाहिए,
  • किसान अल्पावधि फसल ऋण धारक होना चाहिए,
  • मृत ऋण धारक के परिवार को भी इस योजना का लाभ मिलता है,
  • सिर्फ और सिर्फ सरकारी बैंक से लिया कर्ज माफ किया जाएगा।
  • एक परिवार से केवल एक फसली ऋण धारक सदस्य ही योजना का पात्र होगा।

कर्जमाफी योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज कौन से हैं?

इस “कर्ज माफी योजना” का लाभ लेने के लिए किसानों के पास कुछ ऐसे दस्तावेज होना जरूरी है जिससे किसान इस योजना के लिए आवेदन कर सकेंगे। निम्नलिखित दस्तावेज होना जरूरी है :

  1. पहचान पत्र
  2. राज्य का निवास प्रमाण पत्र
  3. पासपोर्ट साइज फोटो
  4. आधार कार्ड
  5. आधार कार्ड लिंक मोबाइल नंबर
  6. हस्ताक्षर या अंगूठे का निशान
  7. जमीन के कागजात
  8. बैंक खाता पासबुक

किसान क्रेडिट कार्ड के फायदे और नुकसान क्या है?

कर्ज माफी योजना का लाभ किसे नहीं मिलेगा?

कई ऐसे लोग है जो किसान होने के साथ साथ किसी भी लोन को चुकाने के लिए योग्य होते है। उन सभी का लोन इस योजना के तहत माफ नहीं होगा। यह लोन माफी सिर्फ छोटे और सीमांत किसानों के लिए है। 

  • केंद्रीय राज्य विभाग और उनकी क्षेत्रीय इकाइयाँ,
  • राज्य सभा, लोकसभा और विधान सभा के पूर्व और वर्तमान सदस्य,
  • राज्य सरकार के पूर्व या वर्तमान मंत्री,
  • राज्य सरकार के मंत्रालय,
  • नगर निकायों के वर्तमान अध्यक्ष,
  • जिला परिषद के वर्तमान अध्यक्ष या मंत्री,
  • पीएसी और संबंध कार्यालय
  • सभी सुपरिंटेंडेंट,
  • सरकार के अधीन स्वायत्त संस्थानों के सभी कार्यरत या सेवानिवृत्त अधिकारी और कर्मि,
  • स्थानीय निकायों के नियमित,
  • सभी व्यक्ति जिन्होंने पिछले निर्धारण वर्ष में आयकर का भुगतान किया था,
  • सभी संबंधित डॉक्टर, इंजीनियर, वकील, चार्टर्ड एकाउंटेंट और आर्किटेक्ट जो अभ्यास कर रहे हैं,
  • सेवानिवृत्त पेंशनभोगी जिनकी मानसिक पेंशन 10 हजार या उससे अधिक है।

किसान क्रेडिट कार्ड पर कितना लोन मिलता है?

कृषि लोन माफी योजना का उद्देश्य क्या होता है?

लोन माफी योजना के लिए सरकार के मुख्य उद्देश्य इस प्रकार हैं –

  • फसल लोन धारक की लोन पात्रता में सुधार करना,
  • नवीन फसली लोन की प्राप्ति सुनिश्चित करना,
  • कृषि अर्थव्यवस्था को मजबूत करना,
  • कृषक समुदाय के पलायन को रोकना।

लोन माफी योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

जब सरकार ने लोन माफी की घोषणा की हो तब आप लोन माफी के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन करने के लिए आप निम्न चरणों का पालन कर सकते हैं :

  1. लोन माफी के लिए सबसे पहले आवेदक को अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर संपर्क करना होगा।
  2. इसके बाद बैंक के ब्रांच मैनेजर से लोन माफी के बारे में बात करना होगा।
  3. जानकारी लेने के बाद लोन माफी की एक आवेदन फॉर्म लेना होगा और उस आवेदन पत्र में मांगी गयी सभी जानकारियों को भरना होगा। 
  4. इसके साथ ही आपको आवेदन पत्र के साथ सभी आवश्यक दस्तावेज अटैच करने होंगे।
  5. इसके बाद आवेदन पत्र को दस्तावेजों के साथ बैंक में जमा करना होगा।
  6. अब आपका लोन माफी का आवेदन पूरा हो गया है, कुछ समय बाद आपका लोन माफ हो जाएगा और आप कर्ज मुक्त हो जाएंगे।

अगर किसी की मृत्यु हो जाए तो उनके लोन का क्या होता है किसे देने होते हैं बाकी पैसे?

यदि किसी व्यक्ति ने पर्सनल लोन लिया है और भगवान न करे उनका मृत्यु हो जाती है, इस मामले में भी लोन माफ नहीं होता है। लोन का पूरा पैसा ब्याज के साथ उनके परिवार को चुकाना पड़ता है।

लेकिन बैंक की अधिकारी या लोन रिकवरी एजेंट आपसे गलत तरीके से लोन की वसूली नहीं कर सकता है, यदि ऐसा करता है तो आप कानून का सहारा ले सकते है।  कई बार ऐसा होता है कि कर्ज लेने वाले की मृत्यु होने पर बैंक कर्ज माफ नहीं करता, बल्कि उस कर्ज खाते को एनपीए यानी नॉन परफॉर्मिंग ऐसेट घोषित कर देता है।

किसान क्रेडिट कार्ड धारक की मृत्यु होने पर क्या होता है?

उधारकर्ता के मृत्यु होने पर उनके परिवार वालो को क्या करना चाहिए?

  • उधारकर्ता की मृत्यु के बाद, ऋणदाता को इसके बारे में सूचित किया जाना चाहिए।
  • बकाया ऋण राशि की माफी या निपटान के लिए अनुरोध कर सकते हैं।
  • यदि ऋण केवल उधारकर्ता के नाम पर है, तो ऋण संस्था ऋण खाते को एनपीए घोषित करेगी।
  • यदि परिवार का सामर्थ्य है, तो लोन संस्था के साथ बैठक करके लोन का सेटलमेंट कर सकते है।

यदि उधारकर्ता के साथ कोई सह-आवेदक है, तो ऋण देने वाली संस्था सह-आवेदक से बकाया ऋण की वसूली करेगी।

क्या पर्सनल लोन माफ हो सकता है?

पर्सनल लोन की बात करे तो, में आपको बताना चाहूंगा की किसान लोन के अलावा किसी भी तरह की लोन को माफी नहीं मिलती है। लोन माफी कई सारे कारणों पर निर्भर करती है। जैसे की : 

  1. किसान की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है,
  2. बारिश नहीं होने से किसानों की फसल की उपज सही नहीं हो रही है,
  3. भारी बारिश के कारण बाढ़ आ गई है, और इससे किसानों को नुकसान हुआ है,

कर्जमाफी से क्या दिक्कत हो सकती है?

  • माफ किए गए कर्ज वास्तव में बैलेंस शीट पर दबाव बनाता हैं। कर्जमाफी से बैंकों का मुनाफा प्रभावित होगा और इससे भी बुरा तब होगा जब बैंक मुनाफा नहीं कमा पाएगा।
  • अगर सरकार बैलेंस शीट को ठीक करने के लिए कर्ज चुकाती है, तो राज्य या संघ की अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी और राजकोषीय घाटा बढ़ेगा।
  • मैक्रोइकॉनॉमिक थ्योरी बताती है कि राजकोषीय घाटा मुद्रास्फीति को ट्रिगर करता है। यदि घाटा बढ़ता है, तो मुद्रास्फीति की दर बढ़ेगी और आपदा बन जाएगी। इसलिए किसानों के अलावा किसी अन्य लोन की माफी संभव नहीं है। 

Emi नहीं चुकाने पर क्या होता है?

FAQ – सवाल जवाब

Q. क्या क्रेडिट कार्ड का कर्ज माफ किया जा सकता है?

जी नहीं ! सरकार सिर्फ और सिर्फ किसान लोन को माफ करता है, तो आपको बताना चाहूंगा की क्रेडिट कार्ड का कर्ज कभी भी माफ नहीं किया जा सकता।    

यह भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here