अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार

0

अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान, सबसे पहले अपने दिमाग को शांत करे। फिर ठंडे दिमाग से सोचे, यदि यह व्यवसाय की विफलता या नौकरी या बीमारी के अचानक नुकसान जैसे वास्तविक कारणों से है, तो आप उधारकर्ता से संपर्क कर सकते हैं और उन्हें इसके बारे में बता सकते हैं, इससे आपको दंडात्मक ब्याज से भी राहत मिल सकती है।

बकाया मूलधन को भी चुकौती से माफ किया जा सकता है यदि लोन चूककर्ता पास ऋण चुकाने के लिए और बेचने के लिए कोई संपत्ति नहीं है। यह सब उधारकर्ता और बैंक के बीच संबंधों पर निर्भर करता है। ऋण की माफी उन मामलों में की जाती है जहां उधारकर्ता गरीबी स्तर का होता है।

अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो परेशान न हो, क्यों की लोनदाता तुरंत कुछ नहीं कर सकता। लोन दाता लोन कर्ता को लोन को चुकाने के लिए पर्याप्त समय देता है। अगर कोई लोन डिफाल्टर है तो बैंक उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगा और कोर्ट के जरिए कर्जदार के गिरवी रखी संपत्ति को बेचने की प्रक्रिया चालू करेगा।

लेकिन अगर किसी वजह से आप कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं तो चिंता न करें, इस लेख को पूरा पढ़ें और अपने अधिकारों के बारे में जानें। अगर लोन एजेंट, कर्ज न चुकाने के कारण घर बैठे कर्ज वसूली के लिए कोई गलत तरीका अपना रहे हैं तो हमने इस लेख में इस पोस्ट से जुड़े सभी सवालों के जवाब दिए हैं।

अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार

अगर आप बैंक से लिया हुआ कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं तो ऐसे में आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है, लोनदाता आपको सीधा जेल नहीं भेज सकता। क्योंकि सरकार ने कर्ज लेने वालों को कई अधिकार भी दिए हैं। लोन डिफॉल्टर के सभी अधिकारों के बारे में हमने निम्नलिखित साझा किया है:

  1. कार्रवाई करने से पहले नोटिस: अगर कर्जदार 90 दिनों तक कोई पेमेंट नहीं करता है तो बैंक लोन अकाउंट को एनपीए घोषित कर देता है। बैंक को कुछ कार्रवाई करने से 60 दिन पहले कर्जदार को नोटिस भेजना होता है।
  2. अमानवीय व्यवहार: यदि उधारकर्ता ऋण चुकाने में विफल रहता है, तो बैंक या रिकवरी एजेंट परिवार को किसी भी तरह का शारीरिक नुकसान, अमानवीय व्यवहार या डराने-धमकाने वाला काम नहीं कर सकता है। अगर रिकवरी एजेंट ऐसा करता है तो कर्जदार कानून का सहारा ले सकता है।
  3. लोन वसूली का समय: बैंक या रिकवरी एजेंट सुबह 7.00 से लेकर शाम के 7.00 तक ही लोन की रिकवरी के लिए संपर्क कर सकता है। रात में बैंक एजेंट किसी भी लोन चूककर्ता के घर नहीं जा सकता है। 
  4. संपत्ति बेचने से पहले नोटिस: अगर बैंक कर्ज की वसूली के लिए आपकी संपत्ति बेचता है, तो ऐसी स्थिति में बैंक को बिक्री की विवरण का उल्लेख करते हुए 30 दिन पहले नोटिस देना होगा।
  5. गिरवी रखी गई संपत्ति का गलत मूल्यांकन: यदि बैंक आपकी संपत्ति का गलत मूल्यांकन करता है, तो आप कानून का सहारा ले सकते हैं और बैंक द्वारा नीलामी को रोक सकते हैं।
  6. संपत्ति का उचित मूल्यांकन : बैंक द्वारा किये जाने वाली नीलामी में संपत्ति का मूल्य यदि लोन चूककर्ता को कम लगता है, तो इस नीलामी में लोनकर्ता भाग ले सकता है और सही मूल्य पर किसी दूसरे व्यक्ति को बेच सकता है। 
  7. नीलामी प्रक्रिया: बैंक आपको बताए बिना संपत्ति की नीलामी प्रक्रिया को गोपनीय तरीके से संचालित नहीं कर सकता है। आप नीलामी प्रक्रिया की पूरी निगरानी कर सकते हैं।
  8. नीलामी शेष राशि की वापसी: यदि आप नीलामी के पैसे से ब्याज सहित ऋण चुका देते हैं, फिर भी पैसा बच जाता है, इस स्थिति में बैंक आपको शेष राशि वापस कर देगा। अगर बैंक ऐसा नहीं करता है तो आप कानून का सहारा ले सकते हैं।

फाइनेंस कंपनी के अधिकार क्या है?

अंत में :

यदि आप लोन को चुकाने में विफल हो रहे है, तो अधिक चिंता न करके सबसे पहले लोन दाता से संपर्क करे और अपनी पड़ेशानी के बारे में बताए। लोन दाता अवश्य आपकी बात सुनेंगे और आपको लोन को चुकाने के लिए अधिक समय प्रदान करेंगे।

लोन की भुगतान करने के लिए आप कई नौकरी करने, किसी दूसरे तरीके अपनाने या अतिरिक्त पैसा बनाने की प्रयास कर सकते है। यदि किसी तरह से भी कुछ काम नहीं बन रहा है, तो  आप लोन दाता से लोन सेटलमेंट की बात भी कर सकते है, ताकि आपका लोन डिफ़ॉल्ट न हो, आपका सिबिल खराब न हो और आप भबिस्य में भी जरुरत पढ़ने पर लोन ले सके।

यदि आपके पास एक पैसा नहीं है, तो आप अंतिम उपाय के रूप में खुद को दिवालिया घोषित कर सकते हैं।

FAQ – सवाल जवाब

Q. लोन वाले परेशान करे तो क्या करें?

यदि लोन वाले आपको परेशान कर रहे है तो चिंता न करें, सबसे पहले आप अपने अधिकार को जाने और उस हिसाब से आगे की कार्यवाही कर सकते है। उधारकर्ता का अधिकार जानने के लिए आप हमारे द्वारा शेयर किया गया इस लेख को पूरा पढ़े।

यह भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here