मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा | Makan Ki Registry Pe Loan

0

मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा : क्या आपको लोन की सख्त जरूरत है और वो भी मकान की रजिस्ट्री के लिए? मुझे पता है कि अभी आपके दिमाग में एक ही बात चल रही है कि मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा। इंटरनेट पर ऐसी बहुत सारी वेबसाइट मिल जाएगी लेकिन मैं आपकी इस आर्थिक समस्या “घर की रजिस्ट्री लोन पर कैसे लें” का समाधान करूंगा।

जब आप वित्तीय तनाव में होते हैं तो किसी आपात स्थिति के दौरान आवासीय या व्यावसायिक संपत्ति पर लोन प्राप्त करना सबसे सामान्य रूपों में से एक है। लोनदाता के पास संपार्श्विक या बंधक के रूप में रखने के लिए आपके पास पर्याप्त संपत्ति होनी चाहिए। यह एक सुरक्षित लोन (Secured Loan)  के रूप में जाना जाता है।

हमारी जरूरत समय के साथ बढ़ती ही जाती है। कभी हमे घर बनवाना हो, गारी खरीदनी हो या किसी जमीन को खरीदने के लिए हमे पैसो की आवश्यकता होती है। लेकिन अगर हमारे पास उस काम को करने के लिए पैसा नहीं हो तो, हमारे पास एक ही विकल्प बचता है और वो है बैंक लोन। अगर आप गांव में रहते हैं और आपको लोन चाहिए तो आप “ग्रामीण होम लोन योजना से लोन कैसे ले” यह आर्टिकल पढ़ सकते है।   

बैंक लोन लेना आसान नहीं होता, जिसमे काफी लोग उलझे होते है। लेकिन अगर आपको चीजें पता हो की मकान की रजिस्ट्री के लिए क्या क्या करना होगा, तो लोन मिलना बहुत आसान हो जाता है। तो आज हम इस आर्टिकल “घर की रजिस्ट्री पर लोन कैसे ले” में इस विषय में विस्तार से बताएँगे, जानने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें। आप चाहें तो बैंक से पर्सनल लोन लेकर भी अपनी जरूरतें पूरी कर सकते हैं।

मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा
मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा

मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा | Makan Ki Registry Pe Loan

घर की रजिस्ट्री पर लोन लेने के लिए आप अपने नजदीकी बैंक में जा सकते हैं जिसमें आपका बैंक खाता है और उस बैंक से लोन लेने के लिए बात कर सकते हैं। इस लोन को लेने के लिए आपको बैंक मैनेजर या लोन ऑफिसर से बात करनी चाहिए। मकान की रजिस्ट्री पर लोन लेने की नियम शर्तो को समझें, साथ ही लोन की अवधी, व्याज दर और चुकाने सम्बंधित जानकारी हासिल करें। 

मकान की रजिस्ट्री पर लोन लेना तब सरल होगा जब आप बैंक द्वारा बताए गए सभी नियमों और शर्तों का पालन करेंगे।  जिसमें आपको बैंक द्वारा मांगे गए सभी दस्तावेज तैयार करने होते हैं। इस चरण का पालन करने से यह स्पष्ट हो जायेगा की आप मकान की रजिस्ट्री पर लोन आवेदन के लिए तैयार हैं।

बैंक लोन अप्लाई करने के लिए बैंक से लोन फॉर्म ले और फॉर्म को पूरा भरे। बैंक द्वारा मांगे गए सभी दस्तावेज के साथ लोन फॉर्म को संलग्न कर जमा करे। लोन अप्लाई करने के बाद बैंक आपके जमा किये डॉक्यूमेंट का वेरीफाई करेंगे।

जब आप बैंक लोन के लिए आवेदन करते हैं, तो बैंक आपके क्रेडिट स्कोर की जांच करता है। एक अच्छा क्रेडिट स्कोर आपको लोन दिलाने में मदद करता है। लेकिन अगर आप सिक्योर्ड लोन ले रहे हैं तो क्रेडिट स्कोर उतना मायने नहीं रखता। क्यों की लोन न चुकाने पर, बैंक आपकी गिरवी रखी जमीन को बेचकर पैसे वसूल करता है।

यह भी पढ़ें : मुद्रा लोन न चुकाने पर क्या होगा

मकान की रजिस्ट्री के लिए आवश्यक सभी दस्तावेज क्या क्या है ?

बैंक का आवेदन फॉर्म भरने के बाद, बैंक द्वारा आवश्यक सभी वैध दस्तावेजों को इसके साथ संलग्न करना है। इसमें शामिल हैं:

  • पहचान प्रमाण
  • पते का सबूत
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • आय प्रमाण
  • रोज़गार का विवरण
  • बैंक विवरण
  • संपत्ति विवरण, (जिस से आप लोन लेना चाहते हैं)

मकान की रजिस्ट्री पर लोन प्रक्रिया को पूरा करने के चरण इस प्रकार हैं:

  1. बैंक के साथ चर्चा
  2. लोन आवेदन पत्र भरें और दस्तावेज़ संलग्न करें
  3. दस्तावेजों का मूल्यांकन
  4. स्वीकृति/अनुमोदन प्रक्रिया
  5. प्रस्ताव पत्र संसाधित करना
  6. कानूनी जांच के बाद संपत्ति के कागजात का प्रसंस्करण
  7. तकनीकी जांच और साइट अनुमान संसाधित करना
  8. अंतिम लोन सौदा
  9. समझौते पर हस्ताक्षर
  10. प्रोसेसिंग शुल्क का भुगतान
  11. लोन वितरण

मकान की कीमत पर कितना लोन मिल सकता है?

घर का वर्तमान मूल्य बैंक द्वारा तय किया जाता है, जिसके अनुसार अधिकतम लोन राशि तय की जाती है। ज्यादातर बैंक मकान की कीमत का 70 से 90 फीसदी तक लोन मिलता है, बैंक मकान की रजिस्ट्री के लिए भी लोन देते हैं। कोई भी बैंक या कोई वित्तीय संस्थान मकान की पूरी कीमत पर लोन मुहैया नहीं करती है। बैंक घर की रजिस्ट्री के लिए 30 लाख रुपये तक पैसा फाइनेंस कर देती हैं।

उदाहरण के लिए : अगर आपका एक मकान है जिसकी कीमत 30 लाख रूपये है, तो बैंक कभी कभी घर की कीमत का 90% तक का फाइनेंस कर देता है। 90% का मतलब है, आपको 27 लाख तक का लोन बैंक से मिल जाता है। मकान की रजिस्ट्री करने के लिए बैंक 30 लाख रुपये तक का रजिस्ट्री खर्च प्रदान करती है।

वहीं, मकान की कीमत 70-75 लाख है तो आपको बताना चाहूंगा की मकान की कीमत का 80% तक लोन मिलता है। 80% का मतलब है, मान लीजिए आपको 60 लाख तक का लोन आसानी से मिल जायेगा।

अगर आपकी घर की कीमत 75 लाख से ज्यादा है तो आपको कितना लोन मिलेगा। तो आपको बताना चाहूंगा की, इस चरण में बैंक आपको घर के मूल्य का 75% लोन प्रदान करेगा।

महिलाओं के लिए होम लोन कैसे ले

मकान की रजिस्ट्री पर लोन का ब्याज दर क्या है ?

प्रत्येक बैंक की ब्याज दर भिन्न हो सकती है। ब्याज के बारे में आपकी जो भी जिज्ञासा है, बेझिझक बैंक से पूछें। नहीं तो बाद में परेशानी का सामना करना पर सकता है। सरकारी बैंकों की ब्याज दर प्राइवेट बैंकों की तुलना में कम होती है। इसके अलावा भी कई कारणों से लोन की ब्याज दर कम या ज्यादा हो सकती है जैसे :

  • मकान का स्थान
  • मकान मूल्य
  • आवेदक की आय
  • महिला आवेदक या सह-आवेदक
  • चुकौती क्षमता
  • मकान का प्रकार (आवासीय, वाणिज्यिक, कार्यालय)

घर की रजिस्ट्री पर लोन प्रोसेसिंग फीस कितनी होती है?

लगभग सभी प्रकार के ऋणों पर प्रोसेसिंग फी लगाया जाता है। प्रोसेसिंग फी कितनी लगेगी यह ज्यादातर बैंक पर निर्भर करता है। आमतौर पर घर की रजिस्ट्री या प्रॉपर्टी लोन पर 0.25% से 2% प्रोसेसिंग फी के साथ जीएसटी भी  लगती है। कभी कभी बैंक के ऑफर के चलते प्रोसेसिंग फीस में छूट भी मिलती हैं।

मकान पर लोन के लिए पात्रता

  • लोनकर्ता को भारतीय होना चाहिए।
  • लोनकर्ता की आयु 21 से 60 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • लोनकर्ता का सिबिल स्कोर अच्छा होना चाहिए।
  • लोनकर्ता का क्रेडिट इतिहास अच्छा होना चाहिए।
  • लोनकर्ता के पास आय का एक स्थिर स्रोत जैसे नौकरी या व्यवसाय होना चाहिए।
  • यदि घर के एक से अधिक मालिक हैं तो ऋण आवेदन में सभी मालिक को सह-आवेदक होने चाहिए।

मकान पर लोन लेने के नियम शर्ते क्या क्या होती हैं?

  • घर आवासीय सीमा के भीतर होना चाहिए।
  • मकान को संबंधित प्राधिकारी, नगर पालिका आदि द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए।
  • घर का मूल्य बैंक द्वारा गठित टीम द्वारा तय किया जाता है।
  • अगर आपका घर ग्रामीण क्षेत्र में न होकर शहरी क्षेत्र की सीमा के भीतर है तो ऋण मिलने की संभावना अधिक होती है।
  • घर में रहने वाले बक्ति किराएदार है या मालिक इसका ब्योरा बैंक देना जरूरी है।
  • अगर घर में किराएदार रहते हैं तो कर्ज के लिए भी किरायेदार से NOC लेना जरूरी है।
  • अगर संपत्ति के एक से अधिक मालिक हैं, तो सभी को सह-आवेदक होना चाहिए।
  • ऋण की अवधि के दौरान घर के कागजात बैंक के पास गिरवी रखे जाते हैं।
  • ऋण लेने के बाद घर का मालिकाना लोनकर्ता के पास ही रहता है।
  • कर्ज न चुकाने की स्थिति में कर्जदार खुद मकान बेच सकता है और कर्ज का भुगतान कर सकता है।
  • कर्ज न चुकाने की स्थिति में बैंक घर की नीलामी कर कर्ज की भरपाई कर सकता है।

30 लाख के लिए ईएमआई 20 साल के लिए होम लोन कितना होगा

मकान की रजिस्ट्री पर लोन का उपयोग

अगर आपने मकान की रजिस्ट्री पर लोन लिया है और आप लोन के पैसे को दूसरे कामों में इस्तेमाल करना चाहते हैं तो मैं आपको बता दूं कि आप अपनी जरूरत के हिसाब से पैसा खर्च कर सकते हैं। लेकिन आपको यह ध्यान रखना है की, किसी भी स्थिति में  बैंक को पैसे वापस करना होगा। नहीं तो बैंक आपके खिलाप कार्य करेगा। इसलिए लोन लिया पैसा सोच-समझकर खर्च करें।

निष्कर्ष

इस लेख में हमने सीखा है कि मकान की रजिस्ट्री पर लोन कैसे मिलेगा। अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो कमेंट करें। आपकी टिप्पणी हमारे लिए बहुत मूल्यवान है, इससे हमें नई जानकारी लिखने और आपके साथ साझा करने की प्रेरणा मिलती है।

चाहे तो आप इस लेख को अपने दोस्त या रिस्तेदारो के साथ सांझा कर सकते है और उन्हें भी मकान की रजिस्ट्री या दूसरे किसी प्रकार के लोन लेने के लिए मदद कर सकते है।

यह भी पढ़ें :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here