फाइनेंस कंपनी के अधिकार क्या है?

0

एक ऋण डिफ़ॉल्ट तब होता है जब एक उधारकर्ता ऋण समझौते की शर्तों के उल्लंघन करके ऋण भुगतान करने में विफल रहता है। यदि कोई उधारकर्ता अपने ऋण पर चूक करता है, तो ऋणदाता को ऋण राशि की वसूली के लिए कानूनी कार्रवाई करने का अधिकार होता है।

एक ऋणदाता को एक डिफ़ॉल्ट ऋण की वसूली के लिए विशिष्ट अधिकार दिए गए हैं, ऋण समझौते के नियम और शर्तें फाइनेंस कंपनी में भिन्न हो सकती हैं। निम्नलिखित में हमने फाइनेंस कंपनी के अधिकार के बारे में साझा किया है :

फाइनेंस कंपनी के अधिकार क्या है?

  • यदि लोनकर्ता लोन की भुगतान 90 दिनों तक नहीं करता है, तो फाइनेंस कंपनी लोन अकाउंट को NPA घोषित कर सक्ता है।   
  • यदि उधारकर्ता के खाते को गैर-निष्पादित परिसंपत्ति (एनपीए) के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जहां चुकौती 90 दिनों तक कोई भी भुगतान नहीं हुआ है, तो ऋणदाता को पहले चूककर्ता को 60 दिनों का नोटिस जारी करना होगा।
  • फाइनेंस कंपनी के पास लोन न चुकाने पर उधारकर्ता के खिलाफ मुकदमा दायर करने का अधिकार होता है।
  • फाइनेंस कंपनी की एजेंट लोन वसूली के लिए सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक आपके निवास या कार्यस्थल पर जा सकते हैं।
  • यदि उधारकर्ता नोटिस अवधि के भीतर लोन चुकाने में विफल रहता है, कुछ मामलों में, एक फाइनेंस कंपनी को ऋण राशि की वसूली के लिए कुछ मामलों में उधारकर्ता की संपत्ति, जैसे कार या घर को जब्त करने का अधिकार भी हो सकता है।
  • यदि आप 60 दिनों की नोटिस अवधि के दौरान अपने बकाया को चुकाने या जवाब देने में विफल रहते हैं तो फाइनेंस कंपनी बकाया राशि की वसूली के लिए आपकी संपत्ति की नीलामी की प्रक्रिया शुरू कर सकता है।
  • संपत्ति बेचने के लिए, बैंक को बिक्री के विवरण का उल्लेख करते हुए एक और 30-दिन की सार्वजनिक सूचना देनी होगी।

अगर नहीं चुका पा रहे हैं लोन तो न हों परेशान यहां पढ़ें अपने ये अधिकार

अंत में :

उधारकर्ताओं के लिए अपने ऋण समझौतों की शर्तों को समझना और अपने ऋणों पर चूक से बचने के लिए समय पर भुगतान करना महत्वपूर्ण है। ऋण पर चूक करने के गंभीर परिणाम हो सकते हैं, जिसमें उधारकर्ता के क्रेडिट स्कोर को खराब, कानूनी कार्रवाई और बंधक भूमि की हानि या सुरक्षित ऋण की कोई संपार्श्विक जब्त होने का डर रहता है।

यह भी पढ़े :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here