एनपीए खाते का निपटारा 2023 – 24 वित्तीय वर्ष में ही कर लें, नहीं तो बैंक उठाएगा ये कदम

0

एनपीए खाते का निपटारा : भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने निर्देश जारी किया है कि गैर-निष्पादित संपत्ति (NPA) खातों का निपटान वित्तीय वर्ष 2023-24 से पहले, विशेष रूप से 31 मार्च, 2024 से पहले पूरा किया जाना चाहिए। एनपीए का मुद्दा, जो ऐसे ऋण हैं जिन्हें समय पर चुकाया नहीं जा रहा है। अतीत में, आरबीआई ने इस समस्या का समाधान करने के लिए कई तरह के उपाय किए हैं और सफल निपटान की सुविधा के लिए बैंकों को ऋण पर ब्याज दरों को कम करने के लिए प्रोत्साहित किया है।

संबंधित लेख:

एनपीए खाते का निपटारा

एनपीए निपटान में आपकी भूमिका:

यदि आपके पास कोई ऋण है जो बकाया है और एनपीए के रूप में वर्गीकृत है, तो यह न केवल बैंक की जिम्मेदारी है बल्कि आपकी भी है कि आप इसका निपटान सुनिश्चित करें।

गैर निपटान के परिणाम:

यदि एनपीए खाते का निपटान नहीं किया जाता है, तो बैंक अतिरिक्त कार्रवाई कर सकता है, खासकर यदि ऋण बंधक द्वारा समर्थित हो। ऐसा ही एक कदम जो बैंक उठा सकता है वह है गिरवी रखी गई संपत्ति की नीलामी शुरू करना। पूरी प्रक्रिया और उसके निहितार्थों को समझना जरूरी है।

निपटान प्रक्रिया को समझना:

एनपीए खाते के निपटान में ऋण लेने वाले (आप) और बैंक के बीच ऋण की अदायगी के संबंध में एक समझौता करना होगा। इस प्रक्रिया के कुछ प्रमुख चरण इस प्रकार हैं:

  • ऋण की स्थिति का आकलन: बैंक ऋण की वर्तमान स्थिति का निर्धारण करने के लिए ऋण का मूल्यांकन करता है, चाहे वह एनपीए के रूप में वर्गीकृत हो या नहीं।
  • बैंक के साथ बातचीत: एक उधारकर्ता के रूप में, आपको संभावित निपटान विकल्पों का पता लगाने के लिए बैंक के साथ विचार-विमर्श करने की आवश्यकता है। इसमें आप ऋण का पुनर्गठन या कम भुगतान राशि पर बातचीत कर सकते है।
  • एक निपटान योजना का प्लान तैयार करना: एक बार जब दोनों पक्ष शर्तों पर सहमत हो जाते हैं, तो संशोधित चुकौती अनुसूची, ब्याज दरों और अन्य प्रासंगिक शर्तों को लिखते हुए एक निपटान योजना तैयार की जाती है।
  • निपटान को लागू करना: सहमति-प्राप्त निपटान योजना का पालन करना और नई शर्तों के अनुसार समय पर पुनर्भुगतान करना महत्वपूर्ण है। ऐसा करने में विफलता के परिणामस्वरूप समझौता समाप्त हो सकता है।

एनपीए खाते का निपटारा न कराने का नुकसान:

जब एक आम व्यक्ति की गैर-निष्पादित संपत्ति (एनपीए) खाते का निपटारा नहीं किया जाता है, तो इससे कई नुकसान हो सकते हैं। इससे न केवल बैंक से मानसिक दबाव पड़ता है, बल्कि इससे क्रेडिट स्कोर में भी भारी गिरावट आती है। यह, बदले में, भविष्य में ऋण प्राप्त करने में कठिनाइयाँ पैदा करता है।

इसके अतिरिक्त, ऋण चुकौती के लिए बैंक के विशेष प्रस्तावों का लाभ उठाने में विफल रहने पर छिपे हुए शुल्क और वित्तीय बोझ में वृद्धि हो सकती है। संभावित नुकसान से बचने के लिए एनपीए खाते का निपटान न करने के परिणामों को समझना महत्वपूर्ण है।

क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव:

यदि आप अपने एनपीए खाते का निपटान नहीं करते हैं तो यह आपके क्रेडिट स्कोर को नुकसान पहुंचा सकता है। एक क्रेडिट स्कोर एक व्यक्ति की उधार पात्रता को दर्शाता है। जब लोन का भुगतान समय पर नहीं किया जाता है तो इसका क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। यह निचला स्कोर भविष्य में ऋण सुरक्षित करना चुनौतीपूर्ण बनाता है, क्योंकि बैंक क्रेडिट स्कोर को ऋण देने के निर्णयों में एक महत्वपूर्ण कारक मानते हैं।

छूट के लिए छूटे हुए अवसर:

बैंक अक्सर अपने ऋण चुकाने वाले उधारकर्ताओं को विशेष ऑफ़र और छूट प्रदान करते हैं। इन ऑफ़र का लाभ न लेने पर, आप संभावित बचत से वंचित रह सकते हैं। समय पर निपटान के अभाव में, छिपे हुए शुल्क लगाए जा सकते हैं, जिससे पुनर्भुगतान राशि में वृद्धि हो सकती है। लंबी अवधि के वित्तीय प्रभावों पर विचार करना और एनपीए खाते को निपटाने और अतिरिक्त लागतों से बचने के किसी भी अवसर का लाभ उठाना महत्वपूर्ण है।

कानूनीपरिणाम:

यदि एनपीए खाते का निपटान नहीं होता है, तो बैंक अदालत में मामला दायर कर कानूनी कार्रवाई शुरू कर सकता है। इसका परिणाम एक अनिवार्य निपटान में हो सकता है, जिससे समय और धन का महत्वपूर्ण नुकसान हो सकता है। कानूनी जटिलताओं और संबंधित वित्तीय बोझ से बचने के लिए जितनी जल्दी हो सके एनपीए खाते को संबोधित करना महत्वपूर्ण है।

निष्कर्ष:

निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर एनपीए खाते का निपटान न करने के कई नुकसान हो सकते हैं। इनमें बैंक से मानसिक दबाव, क्रेडिट स्कोर में गिरावट, भविष्य के ऋण प्राप्त करने में कठिनाई, छूट के अवसर चूकना और संभावित कानूनी परिणाम शामिल हैं। अनावश्यक वित्तीय बोझ से बचने और अपनी वित्तीय भलाई की रक्षा के लिए दीर्घकालिक वित्तीय प्रभाव को समझना और एनपीए खातों के निपटान को प्राथमिकता देना आवश्यक है।

यह भी पढ़े:

Previous articleआधार कार्ड पर 20000 का लोन कैसे मिलेगा? Aadhar Card Se 20000 Ka Loan Kaise Le
Next articleगाय भैंस खरीदने के लिए लोन Rajasthan में कैसे लें? पशु किसान क्रेडिट कार्ड योजना और कामधेनु डेयरी योजना
दोस्तों, मेरा नाम जय है और मैं पश्चिम बंगाल के एक छोटे से जिले से हूँ। मुझे बैंकिंग और फाइनेंस के बारे में नई चीजें सीखने और दूसरों के साथ अपना ज्ञान साझा करने में आनंद मिलता है, इस कारण से मैंने इस ब्लॉग को शुरू किया है और आगे भी लोगों की मदद करने के लिए नए लेख और जानकारी साझा करता रहूंगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here